KamRath

आयुर्वेदिक औषधियां का परिचय:


अगर आपको पता हो विश्व की सबसे प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद ही है। संस्कृत के प्राचीन ग्रंथो के मुताबिक सबसे पहले देवता इसी चिकित्सा का इस्तेमाल करते थे, जिसके बाद उन्होंने लोगों के कल्याण के लिए विभिन्न आचार्यों को इसका ज्ञान दिया था। आयुर्वेद का पहले से अंत तक आचार्य क्रम इस प्रकार है, सबसे पहले अश्विनीकुमार, इनके बाद धन्वंतरि, महर्षि अत्रि और उनके छः शिष्य, अंत में इस ज्ञान को संभालने का काम आचार्य सुश्रुत और आचार्य चरक ने किया है। आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार इस धरती पर जो भी पेड़, पौधा उसकी जड़, छाल, फल ,फुल होते हैं उन सभी के अंदर अलग-अलग प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं। वर्तमान समय में लोग इस चिकित्सा पद्धति का रुख करने लगे हैं, परन्तु उन्हें इसके बारे में और ज्यादा जागरूक होने की जरूरत है|

हम आयुर्वेदिक औषधियां (मेडिसिन्स) कम से कम तीन महीने क्यों लेते हैं
आप किसी भी बीमारी से संक्रमित है, उसके उपचार के लिए अगर आप आयुर्वेदिक दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो इनका असर आपको 15 से 20 दिनों में दिखना शुरू होता है| यह आपके रोग पर निर्भर करता है कि आप उससे किस तरीके से ठीक हो रहे हैं, परन्तु हर आयुर्वेदिक मेडिसिन्स को कम से कम तीन महीने जरुर खाना होता है| क्योंकि इसी समय में औषधि के असर का पता चल पाता है| अक्सर देखा जाता है कि आयुर्वेदिक दवा 6 महीने से 1 साल तक भी चल जाती है, यह किसी भी बीमारी में एकदम से असर नही करती, लेकिन उसको जड़ से खत्म करने में अहम भूमिका निभाती है| इन दवाइयों के नुकसान कम और फायदे जाता होते हैं| जैसे-जैसे समय का पहिया घूमा है, वैसे-वैसे लोगों के खान-पान और जीवनशैली में भी बदलाव देखने को मिल रहा है| आयुर्वेद के बारे में अक्सर आपने लोगों को बात करते सुना होगा कि इस चिकित्सा का कोई भी नुकसान नही है। आज के समय में इस चिकित्सा पद्धति का चलन बढ़ता जा रहा है और लोग आधुनिक उपचार के साथ आयुर्वेदिक दवाइयों की सहायता लेते नज़र आते हैं|

अगर आप आयुर्वेदिक दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो आपको सजग और सावधान रहने की जरूरत है| प्राचीन ऋषि मुनियों ने इनके उपयोग के लिए कुछ नियम कानून बनाए हैं जिनका पालन करना बहुत आवश्यक है| आयुर्वेद चिकित्सा कहती है कि अगर नियम को ध्यान में रखकर इन दवाइयों का सेवन न किया जाए तो आगे चलकर अनेक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए सावधानी के साथ उनका उपयोग करें|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *